Monday, 18 October 2021

डॉलर के मुकाबले शुरुआती कारोबार में रुपया 9 पैसे गिरा
 
 नई दिल्ली। रिलायंस इंडस्ट्रीज, आईटीसी और एचडीएफसी जैसी बड़ी कंपनियों के शेयरों में गिरावट से सोमवार को शुरुआती कारोबार में बीएसई का सेंसेक्स 199 अंक नीचे आ गया जबकि एनएसई का निफ्टी 11,800 अंक के नीचे चला गया। 11:30 बजे तक सेंसेक्स 218 अंकों की गिरावट के साथ 39,233 और निफ्टी 77 अंकोंकी गिरावट के साथ 11,746 के स्तर पर कारोबार कर रहा था।
बीएसई का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक शुरुआती कारोबार में 199.84 अंक यानी 0.51 प्रतिशत गिरकर 39,252.23 अंक पर आ गया। वहीं, निफ्टी भी शुरुआती दौर में 65.40 अंक यानी 0.55 प्रतिशत लुढ़क कर 11,757.90 अंक पर आ गया।
शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स की सबसे ज्यादा गिरावट वेदांता, टाटा स्टील, रिलायंस इंडस्ट्रीज, कोल इंडिया, एक्सिस बैंक, हीरो मोटोकॉर्प, टाटा मोटर्स और कोटक बैंक के शेयर में रही। यह दो प्रतिशत तक गिर गए। वहीं, दूसरी ओर येस बैंक, इंफोसिस, पावरग्रिड, एनटीपीसी और टीसीएस के शेयर एक प्रतिशत तक बढ़े।
अन्य एशियाई बाजारों में शंघाई कंपोजिट सूचकांक, हेंगसेंग, निक्की और कॉस्पी में शुरुआती कारोबार में मिला-जुला रुख रहा। शेयर बाजार के पास मौजूद प्रारंभिक आंकड़ों के मुताबिक, विदेशी संस्थागत निवेशकों ने शुक्रवार को शुद्ध रूप से 238.64 करोड़ रुपये के शेयर बेचे जबकि घरेलू संस्थागत निवेशक 376.47 करोड़ रुपये के शेयर के शुद्ध लिवाल रहे।
घरेलू शेयर बाजार की शुरुआती गिरावट और कच्चे तेल के दाम में तेजी से सोमवार को रुपया शुरुआती कारोबार में अमेरिकी मुद्रा के मुकाबले 9 पैसे गिरकर 69.89 रुपये प्रति डॉलर आ गया। अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार पर डॉलर के मुकाबले रुपया गिरावट के साथ 69.87 रुपये प्रति डॉलर के स्तर पर खुला और शुरुआती कारोबार में पिछले दिन के बंद के मुकाबले नौ पैसे गिरकर 69.89 रुपये पर आ गया। शुक्रवार को डॉलर के मुकाबले रुपया 69.80 पर बंद हुआ था।

नई दिल्ली। मोटरसाइकिल-कार के साथ बड़े वाहनों का थर्ड पार्टी बीमा का बढ़ा हुआ प्रीमियम रविवार से लागू हो गया। वाहन उद्योग का कहना है कि इससे नया वाहन खरीदना और महंगा हो जाएगा और पहले ही गिरावट झेल रही कंपनियों को झटका लगेगा। नया दोपहिया वाहन खरीदने पर पांच साल और कारों के लिए तीन साल का थर्ड पार्टी बीमा कराना जरूरी है। चौपहिया वाहनों का बीमा प्रीमियम 12.5 फीसदी तक और दोपहिया पर 21 फीसदी तक बढ़ा है। इससे नए दोपहिया वाहनों की कीमत में 350 से 1000 रुपये तक और चौपहिया वाहनों की कीमत छह से 11 हजार रुपये तक बढ़ जाएगी।
 

नई दिल्ली। सरकार को बजट में मिठाई, नमकीन और सोडायुक्त पेय पदार्थों पर टैक्स बढ़ाने के सुझाव भी मिले हैं। सामाजिक क्षेत्र से जुड़े विशेषज्ञों ने कहा है कि इन उत्पादों पर ज्यादा टैक्स लेकर शिक्षा, स्वास्थ्य, महिला सुरक्षा पर बजट बढ़ाया जा सकता है। बजट पूर्व बैठक के दौरान वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को विशेषज्ञों ने ये सुझाव दिए। विशेषज्ञों ने वित्त मंत्री को मीठे और नमकीन उत्पादों पर ऊंचा शुल्क लगाने , चिकित्सा उपकरणों पर करों को को घटाने का सुझाव दिया। साथ ही स्वास्थ्य सेवा ढांचे के लिए विशेष फंड, दवाओं के साथ-साथ जांच की सुविधाएं मुफ्त करने का भी सुझाव दिया गया है। सीतारमण ने कहा कि मौजूदा सरकार शैक्षिक मानकों में सुधार लाने, युवाओं का कौशल और रोजगार के अवसर बढ़ाने, बीमारी के बोझ को कम करने और मानव विकास में सुधार के लिए प्रतिबद्ध है।
 

नई दिल्ली। थोक मूल्य पर आधारित मुद्रास्फीति मई में 22 महीने के निचले स्तर यानी 2.45 प्रतिशत पर रही। इसकी प्रमुख वजह खाद्य सामग्री, ईंधन और बिजली की दरों का कम होना है। थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति के आधिकारिक आंकड़े शुक्रवार को जारी किए गए। इसी में यह बात सामने आयी है। यह जुलाई 2017 के बाद लगभग 22 महीने बाद थोक मुद्रास्फीति का सबसे निचला स्तर है। जुलाई 2017 में इसकी दर मात्र 1.88 प्रतिशत थी।
अप्रैल 2019 में यह 3.07 प्रतिशत रही, जबकि मई 2018 में यह 4.78 प्रतिशत थी। खाद्य वस्तुओं में थोक मुद्रास्फीति का स्तर 6.99 प्रतिशत रहा, जबकि अप्रैल में यह 7.37 प्रतिशत था। हालांकि महीने के दौरान प्याज की कीमतों में बढ़ोतरी देखी गयी और इसकी मुद्रास्फीति की दर 15.89 प्रतिशत रही।
सब्जियों की थोक मुद्रास्फीति इस दौरान नरम पड़कर 33.15 प्रतिशत रही जबकि अप्रैल में यह 40.65 प्रतिशत थी। आलू की थोक मुद्रास्फीति मई में घटकर शून्य से 23.36 प्रतिशत नीचे रही जबकि अप्रैल में यह शून्य से 17.15 प्रतिशत नीचे थी। ईंधन एवं बिजली क्षेत्र में मुद्रास्फीति की दर घटकर 0.98 प्रतिशत रही जो पिछले महीने 3.84 प्रतिशत थी। विनिर्मित वस्तुओं की कीमतों में भी कमी देखी गयी है। मई में इसकी मुद्रास्फीति दर 1.28 प्रतिशत रही जो अप्रैल में 1.72 प्रतिशत थी।
मार्च की थोक मुद्रास्फीति के संशोधित आंकड़े भी जारी किए गए हैं। मार्च की संशोधित मुद्रास्फीति 3.10 प्रतिशत रही जबकि अनुमानित अस्थायी आंकड़ों में यह 3.18 प्रतिशत थी। इस हफ्ते की शुरुआत में खुदरा मुद्रास्फीति के आंकड़े भी जारी किए गए थे। मई में उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित खुदरा मुद्रास्फीति सात महीने के उच्च स्तर यानी 3.05 प्रतिशत पर रही थी।
भारतीय रिजर्व बैंक अपनी मौद्रिक नीति को तय करने में खुदरा मुद्रास्फीति के आंकड़ों पर भी गौर करता है। छह जून को जारी मौद्रिक समीक्षा में केंद्रीय बैंक ने नीतिगत ब्याज दर या रेपो दर को घटाकर 5.75 प्रतिशत कर दिया था जो पहले छह प्रतिशत थी। रिजर्व बैंक ने 2019-20 की पहली छमाही में मुद्रास्फीति 3 से 3.1 प्रतिशत रहने का अनुमान लगाया है।
 
  • 11596/91
  • Samvad september
  • Anand Greens
  • 15 aug 1
  • 15 Aug 2
  • Jspl

About Us

खबर वर्ल्ड 24 .com एक ऐसा न्यूज बेबसाईट है।जिसके माध्यम से विभिन्न दैनिक समाचार पत्र एवं अन्य पत्रिका को समाचार एवं फोटो फीचर की सेवायें न्यूनतम शुल्क में प्रदान किया जाता है।साथ ही लिंक के द्वारा भी अन्य पाठकों को भी फेसबुक व्हाट्सएप, यूटयूब व अन्य संचार माध्यम से प्रतिदिन समय समय पर न्यूज भेजा जाता है। khabarworld24.com बहुत कम समय मे अपने पाठकों के बीच लोकप्रिय हुआ है। इस वेबसाइट में विभिन्न प्रकार के समाचार जैसे राजनैतिक, सामाजिक, आर्थिक, प्रसाशनिक, स्वास्थ्य, व्यापार, खेल मनोरंजन, कानून, अपराध, पर्यटन, सांस्कृतिक, एवं सम सामायिक घटनाक्रम का समावेस रहता है। ख़बरवर्ल्ड न्यूज सर्विसेज kwns उत्कृष्ट समाचार एवं सेवाएं देने के लिए तत्पर व कटिबद्व है |

संपर्क करे

संपादक : व्यास पाठक
पता : ख़बरवर्ल्ड न्यूज सर्विसेस प्रेस एंड मीडिया हाउस
तेलीबांधा तालाब की पीछे श्याम नगर रायपुर छत्तीसगढ़ पिन 492006
☎ +91 9329228972
khabarworld2010@gmail.com

Timeline